लोकपाल: फिर आंदोलन करेंगे अन्ना मोदी को लिखा पत्र

सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने भाजपा नीत सरकार को लोकपाल की नियुक्ति करने के मुद्दे पर गंभीर न होने का आरोप लगाते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखा और इस संबंध में उन्हें आंदोलन करने के लिए चेताया। हजारे ने पत्र में लिखा है ‘‘आपकी सरकार के सत्ता में आने के बाद विश्वास होने लगा था कि लोकपाल की मांग पूरी हो जाएगी हालांकि ऐसा नहीं हुआ।’’ प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में उन्होंने कहा, ‘‘आपके ऐसे रवैये के चलते मैं एक और आंदोलन करने पर विचार कर रहा हूं।’’

उन्होंने कहा, ‘‘वर्ष 2011 में दिल्ली के रामलीला मैदान में मेरे अनशन को देशव्यापी प्रतिक्रिया मिली थी और लोकपाल विधेयक संसद में पारित हुआ था।’’ आगे उन्होंने लिखा है ‘‘आपकी सरकार के सत्ता में आने के बाद विश्वास होने लगा था कि लोकपाल की मांग पूरी हो जाएगी। हालांकि ऐसा नहीं हुआ।’’ उन्होंने लिखा ‘‘आपने जनता से किया गया वादा त्याग दिया।’’ हजारे ने लिखा है ‘‘मैं तीन साल चुप रहा लेकिन भ्रष्टाचार के खिलाफ आंदोलन फिर से शुरू करने का समय आ गया है। लोकपाल कानून को लागू न करना जन भावनाओं का गहरा अपमान करना है।’’ उन्होंने कहा अभी भी देश भर से भ्रष्टाचार के बारे में शिकायतें मिलती हैं।

इससे पहले लोकपाल की नियुक्ति मामले में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को आदेश दिया है कि वह बिना नेता विपक्ष के ही लोकपाल की नियुक्ति की प्रक्रिया पूरी करे. कोर्ट ने कहा, नेता विपक्ष के ना होने की वजह से लोकपाल की नियुक्ति को रोके रखने का कोई औचित्य नहीं है और वर्तमान कानून में बिना LOP के लिए संशोधन किए भी लोकपाल की नियुक्ति की जा सकती है। सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र की उस दलील को खारिज कर दिया जिसमें कहा गया कि बिना कानून में संशोधन किए लोकपाल की नियुक्त नहीं हो सकती। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि आमतौर पर जब कोई संशोधन संसद में लंबित हो तो कोर्ट कोई आदेश जारी नहीं करता लेकिन इस कानून में संशोधन के बिना नियुक्ति हो सकती है। अगर नेता विपक्ष नहीं हैं तो लोकपाल की चयन समिति में प्रधानमंत्री, लोकसभा अध्यक्ष, भारत के प्रधान न्यायाधीश या नामित सुप्रीम कोर्ट के जज ही एक नामचीन हस्ती का चुनाव कर सकते हैं।
24 अप्रैल 2017 को सुनवाई के दौरान कोर्ट ने कहा कि केंद्र के पास इसका कोई जस्टिफिकेशन नहीं है कि इतने वक्त तक लोकपाल की नियुक्ति को सस्पेंशन में क्यों रखा गया है।

Leave a Reply